Friday, November 24, 2017

Consumer Devices Survey 2017

General Studies- II - Development processes and the development industry- the role of NGOs, SHGs, various groups and associations, donors, charities, institutional and other stakeholders
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11571-consumer-devices-survey-2017

Most violent region for women

General Studies- II - Important International institutions, agencies and fora- their structure, mandate.
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11572-most-violent-region-for-women

QS Rankings 2017

GENERAL STUDIES-III - Science and Technology- developments and their applications and effects in everyday life
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11573-qs-rankings-2017

President gives nod for Code ordinance

General Studies- II - Important aspects of governance, transparency and accountability, e-governance- applications, models, successes, limitations, and potential; citizens charters, transparency & accountability and institutional and other measures.
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11574-president-gives-nod-for-code-ordinance

Navy gets its first woman pilot

GENERAL STUDIES- II - Issues relating to development and management of Social Sector/Services relating to Health, Education, Human Resources.
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11575-navy-gets-its-first-woman-pilot

बहु-राज्यीय मॉक सुनामी अभ्यास 2017

सामान्य अध्ययन III - आपदा और आपदा प्रबंधन
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants-hindi/11568-2017-17

नेवी की पहली महिला पायलट

सामान्य अध्ययन- II - स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधन से संबंधित सामाजिक क्षेत्र / सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित मुद्दे।
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants-hindi/11569-2017-11-24-02-36-26

ब्रिक्स के TOP 20 संस्थानों में चार भारतीय

सामान्य अध्ययन III - विज्ञान और प्रौद्योगिकी- विकास और उनके अनुप्रयोग और दैनिक जीवन में प्रभाव
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants-hindi/11570-top-20

KSG Bulletin 24 November 2017


UN Climate Changes


Today's Headlines 24 November 2017

Navy gets its first woman pilot
GENERAL STUDIES- II - Issues relating to development and management of Social Sector/Services relating to Health, Education, Human Resources.
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11575-navy-gets-its-first-woman-pilot

President gives nod for Code ordinance
General Studies- II - Important aspects of governance, transparency and accountability, e-governance- applications, models, successes, limitations, and potential; citizens charters, transparency & accountability and institutional and other measures.
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11574-president-gives-nod-for-code-ordinance

QS Rankings 2017
GENERAL STUDIES-III - Science and Technology- developments and their applications and effects in everyday life
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11573-qs-rankings-2017

Most violent region for women
General Studies- II - Important International institutions, agencies and fora- their structure, mandate.
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11572-most-violent-region-for-women

Consumer Devices Survey 2017
General Studies- II - Development processes and the development industry- the role of NGOs, SHGs, various groups and associations, donors, charities, institutional and other stakeholders
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11571-consumer-devices-survey-2017

Today's Editorial 24 November 2017

Spreading it out


Source: By Bhaskar Dutta: The Telegraph


Thomas Piketty's unlikely bestseller - Capital in the TwentyFirst Century - generated renewed interest in inequality amongst both academic researchers and policy economists. Distributional issues have, of course, always been at the forefront of economic research, particularly amongst development economists. But, their typical concern has been with issues involving the incidence of poverty in developing countries rather than with inequality per se. But Piketty and others established conclusively that income (and wealth) distribution is a matter of serious concern even in the advanced economies - there is a wealth of evidence that the fruits of economic growth have been captured almost entirely by those at the top of the income ladder. Not surprisingly, rising inequality levels have created a lot of social unrest and political upheavals, Brexit and Donald Trump's victory being leading examples of the latter phenomenon.

An important consequence of the renewed interest in inequality has been the change in the mindset of international agencies which have in the past paid scant attention to distributional issues, focusing (and preaching) on policies that they believed would accelerate growth. Perhaps the best and most dramatic example of this is the International Monetary Fund, hitherto one of the bastions of rightwing economic orthodoxy. Several recent studies by IMF staff economists have re-examined the trade-offs between sustained growth and inequality levels. One study indicates that lower inequality may actually drive faster and more durable growth for a given level of redistribution. Moreover, redistribution appears generally benign in its impact on growth. There is very little evidence suggesting that countries which emphasize redistribution suffer from low rates of growth once other factors have been taken into account. These suggest that the combined direct and indirect effects of redistribution are, on average, pro-growth.

Another IMF study published in its Fiscal Monitor is perhaps more striking. It concludes on the basis of an analysis of tax rates in the countries of the Organisation of Economic Co-operation and Development that there is no strong relationship between the degree of progressivity of tax rates and economic growth. In fact, the study adds that if countries prefer to redistribute wealth and incomes, then "there may well be scope for increasing the progressivity of income taxation without significantly hurting growth". This must come as music to the ears of the sizeable number of people who feel that "right wing" governments are simply not doing enough to promote the interests of those at the bottom end of the income ladder.

The received doctrine in much of the neoclassical literature on growth and development has been that implementation ofequality-inducing policies must also retard economic growth. This was, for instance, the central theme in Arthur Okun's influential book written in 1975. Much earlier, Nicholas Kaldor described a theoretical model with just two income classes - the rich and poor. Kaldor made the quite plausible assumption that the rich save a larger fraction of their gross income. This immediately implied that the higher the fraction of total income accruing to the rich, the greater would be the overall volume of savings and investible resources in the economy. To the extent that the availability of capital is the only constraint on growth, this may be one channel through which efforts to reduce inequality may slow down the growth process.

While there may be a grain of truth in the Kaldorian paradigm, it is rather naïve to assume that the growth tap will be turned on as soon as capital is made available. In particular, the major constraint on growth may be an inadequacy of aggregate demand. Entrepreneurs may cut back on production and meet low levels of demand by drawing down inventories. A more equal distribution of incomes can generate additional demand precisely because low income earners spend virtually all their incomes. This may well be a principal cause of the recent slowdown in India and many other economies.

A more 'modern' or recent approach is to bring in the negative incentive effects of redistribution through higher tax rates. A first impression must be that any increase in income tax rates will reduce the marginal return of work. This tends to make work less rewarding and correspondingly leisure more attractive. However, there is a countervailing effect. The increase in tax rates also reduces incomes and reduces demand for all goods and services. Since leisure can be treated like other goods, this effect will make people demand less leisure - that is work more. So, there is no unambiguous effect of income on the incentive to work. Of course, what is crucial is the level of taxation. There is no doubt that the exorbitant marginal tax rates that we had at one time - over 90 per cent - must have left the top income earners either with no incentive to work or promoted large-scale tax evasion.

The report in the IMF's Fiscal Monitor alluded to earlier also has interesting policy implications for India. The IMF's analysis reveals that if governments intend to maximize revenue, then the optimal tax rate on higher incomes should be 44 per cent. While such a precise quantitative estimate must be taken with a pinch of salt - the optimal rate must surely depend onspecific country circumstances such as the level of indirect taxes - it does suggest that the super-rich in India are getting off rather lightly with marginal tax rates in the mid-thirties. A common argument against raising income tax rates is that this may encourage a greater degree of tax evasion. However, increased computerization and streamlining of operations of the tax authorities has forced greater tax compliance. It is that much harder to evade taxes and so an increase in marginal tax rates of, say, 3-4 per cent is unlikely to result in more people evading taxes.
It is fair to claim that the recent debate on distribution versus growth shows that that the equality-growth trade-off is nonexistent. That is, there is little reason to believe that efforts to achieve a more equitable distribution of incomesmust come at the expense of lower rates of growth. In fact, redistribution may even result in higher rates of growth. Of course, our concern with rising or even static but high levels of inequality should not be based purely on instrumental grounds. A better distribution of the national cake is a legitimate objective of development policy. But, it helps that instrumental reasons reinforce welfare-theoretic arguments in favour of a more equitable distribution of national incomes. This should surely ensure that there is less opposition to future efforts at redistribution.

Today's Questions (P.T) 24 November 2017

1. Consider the following statements regarding the Anglo-Mysore rivalry:
1. Haider Ali died in the first Anglo-Mysore War.
2. The second Anglo-Mysore War was ended with the Treaty of Madras.
3. The Third Anglo-Mysore war destroyed Tipu’s dominant position in the South.
Choose the correct statement/s
(a) 1 Only (b) 3 Only
(c) 2 Only (d) All are incorrect

2. With reference to the Permanent Settlement, consider the following statements:
1. It was introduced in Bengal, Bihar by Sir Lord Cornwallis.
2. It made Zamindars owner of the land.
3. Land Revenue to be paid by Zamindars was to be revised periodically.
4. It was later extended to Orissa, Oudh and other parts of Central India.
Which of the statements given above are correct?
(a) 1 and 2 (b) 1, 2 and 4
(c) 1, 2 and 3 (d) All are correct

3. With reference to the Maharaja Ranjit Singh, consider the following statements:
1. He was the chief of Sukerchakia Misl.
2. He brought many changes in the land revenue system that prevailed in the Mughal Empire.
3. He set up modern factories to manufacture canon.
4. He possessed one of the best army in Asia.
Which of the statement given above is/are incorrect?
(a) 1 Only (b) 2 Only
(c) 1, 2 and 4 (d) All are correct

4.  Consider the following statements 
1. The Large Hadron Collider (LHC) is the world’s largest and most powerful particle accelerator. 
2. It is located  between Germany and Switzerland. 
3. The LHC is part of a project helmed under the joint collaboration of ISRO and NASA. 
Which of the given statement/s is/ are correct? 
(a) Only 1 (b) 1 and 2
(c) Only 2 (d) 1 and 3

5. Main reason for osteoporosis in elderly women is 
(a) Lack of Osteoclast activity in bone.
(b) Deficiency of dietary calcium.
(c) Lack of Parathyroid hormone.
(d) Lack of Estrogen

Question Of The Day (Mains) 24 November 2017

Analyse the implementation of Employee the Stock Option Plan (ESOP) in Public Sector Bank (PSB).

Today's Headlines (Hindi) 24 November 2017

ब्रिक्स के TOP 20 संस्थानों में चार भारतीय
सामान्य अध्ययन III - विज्ञान और प्रौद्योगिकी- विकास और उनके अनुप्रयोग और दैनिक जीवन में प्रभाव
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants-hindi/11570-top-20

नेवी की पहली महिला पायलट
सामान्य अध्ययन- II - स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधन से संबंधित सामाजिक क्षेत्र / सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित मुद्दे।
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants-hindi/11569-2017-11-24-02-36-26

बहु-राज्यीय मॉक सुनामी अभ्यास 2017
सामान्य अध्ययन III - आपदा और आपदा प्रबंधन
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants-hindi/11568-2017-17

Today's Editorial (Hindi) 24 November 2017

परस्पर पूरक हैं धर्म और राजनीति

स्रोत: द्वारा योगी आदित्यनाथ: दैनिक जागरण

धर्म सदाचार और नैतिक मूल्यों के प्रति हमें आग्रही बनाता है। धर्म पर व्यक्ति और समाज का जीवन टिका है। धर्म को उपासना पद्धतिमत-मजहब के साथ नहीं जोड़ सकते। धर्म एक ही है। आप उसे मानव धर्म कह सकते हैं या व्यापक रूप देना है तो वह सनातन धर्म है। बाकी धर्म नहींमत-मजहब या संप्रदाय हैं। वे धर्म की श्रेणी में नहीं आते। धर्म के साथ व्यापक धारणात्मक व्यवस्था जोड़िए। धर्मनिरपेक्ष शब्द ने इस देश को अपूरणीय क्षति पहुंचाई है। धर्मनिरपेक्षता शब्द आजादी के बाद का सबसे बड़ा झूठ है। व्यवस्था जब किसी मतमजहब या संप्रदाय के प्रति आग्रही न होकर सर्वपंथ समभाव के साथ आगे बढ़ेगी तभी आदर्श होगी। धर्म कर्तव्यसदाचार और नैतिक मूल्यों का पर्याय है। अगर किसी व्यवस्था को इस सबसे निरपेक्ष करेंगे तो फिर वह अकर्मण्य ही होगी। सदाचार से निरपेक्ष व्यवस्था क्या होगीदुराचार की होगी। नैतिक मूल्यों से निरपेक्ष व्यवस्था क्या होगीपापाचार होगी। ब्रह्मांड में चर और अचर जो भी है उसका अपना धर्म है। वायु अपने धर्म का निर्वाह नहीं करेगी और जल अपने धर्म का निर्वाह नहीं करेगा तो क्या व्यवस्था संचालित हो पाएगीसबकी अपनी उपासना पद्धति है
हम किसी पर अपनी आस्था नहीं थोप सकते। मैं तिलक लगाता हूंबहुत लोगों को यह अच्छा नहीं लगता होगाबहुत लोगों को अच्छा भी लगता होगालेकिन मैं कहता हूं कि इस कर्मकांड का वैज्ञानिक आधार है और मैं इसीलिए तिलक धारण करता हूं। हमारे शरीर को संतुलित करने वाली तीन प्रमुख नाड़ियां इड़ापिंगला और सुषुम्नाइन तीनों के मिलन स्थल-कपाल पर तिलक लगता है। विपरीत तत्वों के मिलन का जो स्थल होता है वहां ऊर्जा उत्पन्न होती है। उस ऊर्जा का उपयोग सही कर सकेंअंत:करण की ओर प्रेरित कर उसका उपयोग लोककल्याण के लिए कर सकेंआध्यात्मिक ऊर्जा का उपयोग आध्यात्मिक उन्नयन के लिए कर सकेंइसलिए हम तिलक धारण करते हैं। वह सौंदर्य का प्रतीक न होकर हमारी आध्यात्मिक ऊर्जा और कर्मकांड से जुड़ा है। इसे पोंगापंथ नहीं मान सकते। हांउसके नाम पर चल रही जो रूढ़िवादिता है और कर्मकांड के नाम पर जो पाखंड है उसे रोका जाना चाहिए।
हम घर में तुलसी का पौधा लगाते हैं। तुलसी का पौधा लगाना पाखंड नहीं। आजकल डेंगू का प्रकोप है पर जो तुलसी का काढ़ा रोज पिएगावह डेंगू से बचा रहेगा। बहुत सारे लोगों को तुलसी पर आपत्ति होगी। सिर पर चोटी रखते हैउस पर भी आपत्ति होगीलेकिन यह पाखंड नहीं। यह सनातन धर्म परंपरा का वैज्ञानिक आधार है। हम रक्षासूत्र क्यों बांधते हैं हाथ में?रक्षासूत्र पाखंड का प्रतीक नहीं। आयुर्वेद में वातपित्त और कफ प्रमुख हैं। वैद्य सबसे पहले इन तीनों का संतुलन ही देखते है। इन तीनों के संतुलन का आधार है रक्षा सूत्र। बहुत से लोग उसे दूसरे तरीके से बांधते हैं। यह तो बुद्धि का अंतर है।
हमारा धर्म सनातन है। यह आदि धर्म है। यह सृष्टि के साथ चला धर्म है। इसमें कट्टरता तो हो ही नहीं सकतीलेकिन यह तो अजीब बात है कि कोई मेरे गाल पर एक थप्पड़ मारे और फिर भी मैं कहूं कि लो दूसरा गाल भी आगे कर रहा हूं। यह तो कायरता है। कोई थप्पड़ मारे तो उसका जवाब तो उसी रूप में देना चाहिए। समाज को पुरुषार्थी बनाना चाहिएकायर नहीं। भगवान राम नहीं चाहते थे कि युद्ध होपर उन्हें शस्त्र उठाना पड़ा। भगवान कृष्ण भी नहीं चाहते थे कि महाभारत हो। दुर्योधन द्वारा बंधक बनाने के प्रयास के बावजूद उन्होंने समझौते के रास्ते बंद नहीं किएलेकिन महाभारत हुई और न चाहते हुए भी उन्हें अस्त्र उठाना पड़ा।
हम कितना भी चाहें कि आतंकवाद का समाधान शांति से होलेकिन अंतत: हमें सुरक्षा बलों को शस्त्र उठाने के लिए प्रेरित करना पड़ता है। इसको सनातन धर्म की उदारता के साथ जोड़कर नहीं देख सकते। उदारतासहिष्णुता सज्जनों के साथ होती हैदुर्जनों के साथ नहीं। जो दुर्जन हैंलोक कल्याण के मार्ग में बाधक हैंराष्ट्रीय हितों पर कुठाराघात करते हैंएकता और अखंडता को चुनौती देते हैं वे शांति से नहीं मानेंगे। वे जिस रास्ते से-जिस तरीके से समझेंगे उसी से समझाना पड़ेगा।
धर्म और राजनीतिदोनों के उद्देश्य समान हैं। जब उद्देश्य में विरोधाभास होएक उत्तरी ध्रुव हो और एक दक्षिणी तो कठिनाई होती है। यहां दोनों का उद्देश्य लोक कल्याण के पथ पर आगे बढ़ना है। सत्ता उपभोग की वस्तु नहीं। सत्ता लोक कल्याण का माध्यम है। एक पीठ के आचार्य के रूप में भी हम उसी कल्याणकारी अभियान से जुड़े हैं। वहां पर धर्म एक माध्यम है और यहां राजनीति एक माध्यम है। धर्म और राजनीति परस्पर पूरक हैंविरोधी नहीं। यह समझने की आवश्यकता है कि धर्म एक दीर्घकालीन राजनीति है और राजनीति अल्पकालीन धर्म है।दोनों को अलग नहीं कर सकते। भारत पर असहिष्णुता का आरोप वे लगाते हैं जो अपनी बुद्धि बेचकर उसका बाजारीकरण करते हैं। कोई ऐसी जाति नहींकोई ऐसा मत-मजहब नहीं जिसको भारत ने अपने यहां शरण न दी हो।
पैगंबर मुहम्मद कभी भारत नहीं आएलेकिन उनके समय में पहली मस्जिद भारत में बनी। यहां पहला चर्च भी हिंदू राजाओं ने बनवाया। पारसी समुदाय भारत आकर बचा। इजराइल भारत के प्रति भावनात्मक लगाव रखता है। केरल के एक पूर्व साम्यवादी मुख्यमंत्री ने एक मलयालम पत्रिका में लिखा था कि जब भारत में कम्युनिस्ट आंदोलन की शुरुआत हुई तो कहा गया कि भारत एक राष्ट्र नहींबल्कि बहुराष्ट्रीयों का समुदाय है। 1946-47 में जब स्वतंत्रता की बात हो रही थी तो इस समय भी साम्यवादियों ने कहा कि एक भारत को स्वतंत्रता कैसे मिल सकती हैभारतीयों की तो अलग-अलग राष्ट्रीयता हैलेकिन उन्हीं ने बाद में स्वीकार किया कि जब वह पूरे भारत के हिंदू धर्म स्थलों और पीठों में गए तो सोचा कि मैं तो उसी केरल से हूं जिस केरल से एक ऐसा संन्यासी निकला था जिसने भारत के चार कोनों में चार पीठों की स्थापना की। आखिरकार उन्होंने माना कि कम्युनिस्ट आंदोलन की सबसे बड़ी विफलता यह थी कि कम्युनिस्टों ने भारत को एक राष्ट्र नहीं माना।

जिन्होंने भारतीय परंपरा को जाना नहींजो विदेशी जूठन खाकर अपनी आजीविका चलाते हैं उन्होंने असहिष्णुता की बात कीलेकिन यह फेल हो चुका है। आज केरल में हिंदू आतंकित हैं। वहां साम्यवादियों की गुंडागर्दी है और उनकी बर्बरता के दृश्य रोंगटे खड़े कर देने वाले हैं। वहां पदयात्रा यात्रा के दौरान मुझे डेढ़ दर्जन ऐसे लोग मिले जिनमें किसी का एक पैर और किसी का एक हाथ नहीं था। आखिर असहिष्णुता की बात ये लोग कैसे कर सकते हैइन दिनों मुख्यमंत्री कार्यालय की सफाई हो रही है तो लोगों को आपत्ति है। उनको हर जगह भगवा दिखाई देता है। भगवान सूर्य की जो किरणें निकलती है वे भी तो भगवा है। जिस अग्नि में उनका भोजन बनता होगा उसका रंग भी बदलेंगे क्या?

Today's Questions (P.T) Hindi 24 November 2017

1. एलौरा गुफाओं के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें 
1. एलौरा गुफाओं को वेरुल लेनी भी कहा जाता है। 
2. यह महाराष्ट्र में स्थित है। 
3. एलौरा में कैलाश की गुफा विश्व में एक ही पत्थर की शिला से बनी हुई सबसे बड़ी मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है। 
सत्य कथनों का चयन करें 
(a) 1 और 2 
(b) 1 और 3 
(c) 2 और 3
(d) 1, 2 और 3  

2. सारगेसो समुंद्र  संबंध  निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. यह महासागरीय धाराओं से व्याख्यायित होता है। 
2. यह उत्तरी अटलांटिक अर्द्ध उष्णकटिबंधीय गाइरे में स्थित है। 
3. कनारी धारा सारगेसो की पश्चिमी सीमा स्थापित करती है। 
उपरोक्त दिए गए कथन / कथनों में से कौन सा / से कथन सत्य हैं ?
(a) 1 और 2 
(b) केवल 1 
(c) केवल 2 
(d) 1, 2 और 3 

3. माइक्रो यूनिट डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी बैंक (मुद्रा बैंक) के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. शिशु, किशोर और तरुण मुद्रा बैंक की तीन आरंभिक पहलें है।  और,  विकास के चरणों और सूक्ष्म इकाइयों अथवा उद्यमों की वित्तीय आवश्यकताओं को इंगित करता है। 
2. मुद्रा ऋण में कोई निश्चित ब्याज दर नहीं है। 
उपरोक्त दिए गए कथनों में से कौन सा / से कथन सत्य हैं ?
(a) केवल 1 
(b) केवल 2 
(c) 1 और 2 दोनों 
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं 

4. लैटराइट मिट्टी में कमी होती है:-
1. कार्बनिक पदार्थ की 
2. नाइट्रोजन की 
3. फॉस्फेट की 
4. कैल्शियम की 
कूट:
(a) 1, 2 और 3 
(b) 1, 3 और 4
(c) 2, 3 और 4
(d) 1, 2, 3 और 4 

5. कृषि कल्याण उपकर (cess) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. वित्त मंत्री ने 2015 के बजट में इस उपकर (cess) को प्रस्तावित किया गया। 
2. इसको 2.5% दर पर लागू किया गया। 
3. इस उपकर (cess) की प्रक्रियाएं पहले भारतीय लोक लेखा के लिए जमा होंगी। 
उपरोक्त दिए गए कथनों में से कौन सा / से कथन सत्य हैं ?
(a) 1 और 2 
(b) 2 और 3 
(c) 1 और 3 
(d) 1, 2 और 3

Question Of The Day (Mains) Hindi 24 November 2017

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के महत्व का वर्णन करेI

Thursday, November 23, 2017

अंतर्राष्ट्रीय संगठन (भाग- 6 ) यूनेस्को

Universal Children’s Day

India's Membership for EBRD approved

General Studies- II - Effect of policies and politics of developed and developing countries on India’s interests, Indian diaspora.
Read more ... http://www.ksgindia.com/index.php/study-material/news-for-aspirants/11559-india-s-membership-for-ebrd-approved